मंजिल यूही नहीं मिलती राही को

मंजिल यूही नहीं मिलती राही को
जुनून सा दिल में जगाना पड़ता है
पूछा चिड़िया को घोंसला कैसे बनता है।
वो बोली तिनका तिनका उठाना पड़ता है

मंजिल यूही नहीं मिलती राही को
Rate this post

You May Also Like